ऐ हवा जाके कह दे तू उनसे

love poems-ऐ-हवा-जा-के

ऐ हवा जाके कह दे तू उनसे।
ऐ हवा जाके कह दे तू उनसे।

बन्द आँखों से तुझे देखा है।
दिल की गहराई से तुझे पूजा है।
तू ही मेरे जीवन की रेखा है।
तेरे जैसा ओर न कोई दूजा है।

दूर हो तो क्या दिल के तो पास हो।
बुझ सके न जो तुम मेरी वो प्यास हो।

ऐ हवा जाके कह दे तू उनसे।
ऐ हवा जाके कह दे तू उनसे।

हम दूर नही है उनसे।
जैसे कोई सुनहरी किरण सूरज की।
बहती हरदम पवन पूरब की।
कभी बरसात का पानी बनके।
हम उनके पैरों में छनके।
हम तो रहते पास हैं उनके।
जी रहे उनके ही सपने बुन के।

ऐ हवा जाके कह दे तू उनसे।
ऐ हवा जाके कह दे तू उनसे।

दिल की धड़कन जब थम जाएँगी।
जब ये सांसे रुक जाएँगी।

लोग तो कहेंगे हम ना रहे इस दुनिया में।
पर उनको क्या पता हम तो होंगे उनके दिल में।

ऐ हवा जाके कह दे तू उनसे।
ऐ हवा जाके कह दे तू उनसे।

फिर इस जन्म मुलाकात हो न हो।
कभी फिर हम पास हो या न हो।
फिर ये लम्हे हो या न हो।
कर लें प्यार भरी दो बातें।
फिर ये एहसास हो या न हो।

ऐ हवा जाके कह दे तू उनसे।
ऐ हवा जाके कह दे तू उनसे।

Also Read-एक कहानी जिंदगी,  Saga of lost love.

Leave a Reply