All for Joomla The Word of Web Design

मत रोको मुझे

Rajendra-Prasad

बिहार की शिक्षा प्रणाली की दुर्दशा पर कवि अभिषेक गोस्वामीएक संवेदनशील कविता

मत रोक मुझे

मत रोक मुझे अपनी हस्ती खोने को

अपने जन्मभूमि से दूर होने को

पल पल नीर बहाने से अच्छा हैं

रो लू जी भर सबकुछ खोने को।।

 

जहाँ भी जाऊंगा, हीन भावना से देखा जाऊंगा

अपने कुछ वेविचारी लोगो की सौगात भी साथ ले जाऊंगा

अब परवाह नहीं मुझे, निचा समझा जाने से

जब किये हैं हम कर्म वैसे तो, फिर क्यूँ डरु सजा पाने से।।

 

जिसके लिए हम पहचाने जाते, राजेंद्र की संतान कहलाते

देख रहा हूँ सारे भूखे दीमक, उस पवित्र वृक्ष को खाते

हैं परवाह नहीं जन की इनको, अपनी पेट भरने में लगे हुए हैं

चंद पैसों की खातिर बिहारी मेधा बदनाम किये हुए हैं।।

 

कभी होती मेधा घोटाला यहाँ, कभी प्रश्न पत्र बिक जाते हैं

कभी बिन परीक्षा हुए, नौकरी भी लग जाते हैं

आज दिख रहा मुझे, कालिदास हर लोभी बिहारी में

उसी टहनी को काट रहा, जिससे इज्जत पाई विश्व सारी में।।

 

पूरी समाज में फैलेगी ख्याति अब, और बड़ा धब्बा लग जायेगा

शक की नजर से तो हम पहले भी देखे जाते थे, अब गर्व से फर्जी डिग्रीधरी कहलायेंगे

घुट घुट कर जीने से अच्छा हैं, एक बार मर जायेंगे

छोड़ देंगे अपना देश, हम परदेशी बन जायेंगे।।

Also Read-ज़रूर पढ़े दिल को छूने वाली लाइनें

देखा नहीं पहले कभी, उस काफिले को बिगडैल होते हुए

नेता हो जिसका इमानदार, ऐसे प्रणाली भ्रष्टाचारी होते हुए

अगर अर्जुन सही से अपनी शक्ति का प्रयोग करे,

तो हिम्मत नहीं किसी दुर्योधन में, जो उसका पथ रोक सके।।

 

निराश हूँ हताश हूँ, पर छोटी सी आशा संजोये हुए

बदलेगी सोच बदलेंगे विचार, ऐसी उमीदे लिए हुए

अपनी इच्छाओ की गुब्बारे, एकल नहीं उड़ायेंगे

बाँध कर उसे एकदूसरे से, प्रगतिशील बिहार बनायेगे।।

Also Read-भ्रष्टाचार: पाप या प्यार

रचनाकार

कवि अभिषेक गोस्वामी

1 Comment

  • Kunal Singh Reply

    February 5, 2017 at 10:21 pm

    बहूत खूब

Leave a Reply

Login

Welcome! Login in to your account

Remember meLost your password?

Don't have account. Register

Lost Password

Register