न जाना रूठ के हॅसती हुई आॅखों को गम दे कर

0
127
20170222074742

तुम्हारा प्यार पाने को फिर आये हैं जन्म ले कर
तुम्हीं ने तो बुलाया है हमें फिर से कसम दे कर

बुलायेगा हमें जब जब तू हम आयेगे तब यूँ ही
निगाहों में वफा और हाॅथो में ये दिल सनम ले कर

यूँ भी अपनी जुदाई में मैं था निर्दोष बिलकुल ही
तुम्ही गुम हो गये थे अपने अंतस में बहम ले कर

मुहब्बत तो समर्पण है मुहब्बत तो है कुर्बानी
भला आता भी है कोई मुहब्बत में अहम ले कर

अगर उल्फत में मिलती है एक नई जिंदगी तो फिर
बेरुखी प्यार में हो तो संग जाती है दम ले कर

खुशी न दे सबको न दो मगर इतनी गुजारिश है
न जाना रूठ के हॅसती हुई आॅखों को गम दे कर

LEAVE A REPLY