Story

माँ को थी बेटे की सफलता की आस, नही हुई निराश

“पसीने की स्हायी से लिखे पन्ने कभी कोरे नहीं होते… जो करते है मेहनत दर मेहनत, उनके सपने कभी अधूरे नहीं होते।” मेहनत और लगन हो तो कुछ भी असंभव नहीं, कोई भी लक्ष्य ऐसा नहीं जिसे साधा नहीं जा सके। लक्ष्य मानव जीवन को जीवंत बनाये रखता है अन्यथा रोज़मर्रा की परेशानियों से जीवन …

माँ को थी बेटे की सफलता की आस, नही हुई निराश Read More »

मेरी कहानी-मेरी जुबानी; बिहटा(बिहार) से बेल्जियम: संतोष कुमार

मैं, संतोष कुमार, ग्राम-डुमरी, पोस्ट-बिहटा, पटना का रहने वाला हूँ। मैं एक शिक्षक हूँ, जो समाज में सुशिक्षा, सद्भाव एवं उन्नति के लिए तत्परता से काम करता हूँ। आज, यूँ ही बैठे हुए विचार आया है अभी तक जो कुछ भी किया है उसका विश्लेषण करूँ। बचपन से आजतक जो भी घटनाए हुई है मेरे …

मेरी कहानी-मेरी जुबानी; बिहटा(बिहार) से बेल्जियम: संतोष कुमार Read More »

सुपर-30: समाज के लिए, समाज के द्वारा चलाई जा रही सामूहिक प्रयास है, यह किसी व्यक्ति विशेष की नहीं है- प्रशांत चौबे

छात्र जीवन मे सपनों का अपना एक अलग व महत्वपूर्ण स्थान है। सपने छात्रों को  जीवंत बनाये रखते है और यही जीवंतता उन्हें अपने लक्ष्य के लिए प्रेरित करती है। सपने परिस्थितियों के मोहताज नहीं होते। हरिवंश राय बच्चन की कुछ पंक्तियाँ सहज ही याद आती हैं — ‘‘कौन कहता है कि स्वप्नों को न …

सुपर-30: समाज के लिए, समाज के द्वारा चलाई जा रही सामूहिक प्रयास है, यह किसी व्यक्ति विशेष की नहीं है- प्रशांत चौबे Read More »

एक दिल छू लेने वाली कहानी: कचरे की चैरिटी

उसने सुधा से कहा,’क्या सुधा तुम भी काम की चीजें कचरे में फेंक देती हो’। छूट्टी के दिन सुधा ने घर की सफाई की थी। राहुल ने देखा कचरे के डिब्बे में कांच की बोतलें,पेन के ढेर सारे खाली खोखे, टूटे फूटे प्लास्टिक के डिब्बे और भी कई प्लास्टिक और लोहे की चीजें पड़ी थी। …

एक दिल छू लेने वाली कहानी: कचरे की चैरिटी Read More »