LATEST ARTICLES

माँ को थी बेटे की सफलता की आस, नही हुई निराश

"पसीने की स्हायी से लिखे पन्ने कभी कोरे नहीं होते... जो करते है मेहनत दर मेहनत, उनके सपने कभी अधूरे नहीं होते।" मेहनत और लगन हो तो कुछ भी असंभव नहीं, कोई भी लक्ष्य ऐसा नहीं जिसे साधा नहीं जा सके। लक्ष्य मानव जीवन को जीवंत बनाये रखता है अन्यथा रोज़मर्रा की परेशानियों से जीवन बोझिल...

मेरी कहानी-मेरी जुबानी; बिहटा(बिहार) से बेल्जियम: संतोष कुमार

मैं, संतोष कुमार, ग्राम-डुमरी, पोस्ट-बिहटा, पटना का रहने वाला हूँ। मैं एक शिक्षक हूँ, जो समाज में सुशिक्षा, सद्भाव एवं उन्नति के लिए तत्परता से काम करता हूँ। आज, यूँ ही बैठे हुए विचार आया है अभी तक जो कुछ भी किया है उसका विश्लेषण करूँ। बचपन से आजतक जो भी घटनाए हुई है...

सुपर-30: समाज के लिए, समाज के द्वारा चलाई जा रही सामूहिक प्रयास है, यह किसी व्यक्ति विशेष की नहीं है- प्रशांत चौबे

super 30 ex student Prashant Chaubey and director of iitianstapasya
छात्र जीवन मे सपनों का अपना एक अलग व महत्वपूर्ण स्थान है। सपने छात्रों को  जीवंत बनाये रखते है और यही जीवंतता उन्हें अपने लक्ष्य के लिए प्रेरित करती है। सपने परिस्थितियों के मोहताज नहीं होते। हरिवंश राय बच्चन की कुछ पंक्तियाँ सहज ही याद आती हैं --- ‘‘कौन कहता है कि स्वप्नों को न...

पकौड़ा और रोजगार

पकौड़ा
आपन देश में अभी एक सियासी बयान ना जाने केतना लोगन के मुह पनिया देले होई, आउर लपलपईल जीभ सब कोई के उस उ बात पर बोले खतिरा विवश करत बा| ऐसही कुछ विवशता हमरो संगे बा और बैठ गईनी ह लिखे| कुछ दिन पाहिले अइसन बयान आईल रहे की पकौड़ा बेच के देश के...

MERI KAHAANI MERI JUBAANI; My Journey from village to IIT Delhi

super30 ex student pankaj
This story is about my tryst with the SUPER-30. Education begins at home, they say. For me, it began with a man named Dr. Mubarak Hussain, “Head Sir”, as we used to call him. He was the founder of a private school, which was the only entity that provided English medium studies (NCERT Pattern)...